19वीं बार सत्याग्रह करने वाले ‘डाॅ. केसी’ अब ‘काठमांडू’ से जारी रखेंगे अनशन - Nai Ummid
3033-px-757.jpg

19वीं बार सत्याग्रह करने वाले ‘डाॅ. केसी’ अब ‘काठमांडू’ से जारी रखेंगे अनशन

File Photo
21 सितंबर, 2020: 19 वीं बार चिकित्सा एवं शिक्षा सुधार की मांग को लेकर अनशन पर बैठे डा. गोविन्द केसी को सोमवार को जुम्ला से काठमांडू ले जाया गया।

आज अनशन के आठवें दिन तक सरकारी पक्ष की ओर से मांग संबोधन के लिए किसी प्रकार पहल शुरू न होने के बाद पहले की तरह आतंक और हिंसा की डर से अनशन में ही डाॅ. केसी ने काठमांडू जाने का निर्णय किया। जिसके बाद डा. केसी सोमवार को हेलिकाॅप्टर से नेपालगंज होते हुए काठमांडू के लिए निकले। 



डाॅ. गोविन्द केसी ने अपने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से जानकारी दी कि ‘स्वास्थ्य और मेडिकल शिक्षा में सुधार तथा सुशासन के लिए हम 19वां सत्याग्रह करते हुए आठवें दिन में पहुंच चुके हैं। लेकिन मांग संबोधन करने के बदले चन्दननाथ धर्मशाला से रातों रात अपहरण शैली में जबरदस्ती अस्पताल ले जाया गया। लेकिन मांग संबोधन केे लिए कोई पहल नहीं हुआ।’

बता दें कि दो वर्ष पहले प्रतिष्ठान में 20 जुलाई, 2018 को अनशनरत डा. केसी को काठमांडू ले जाने की तैयारी के समय केसी पक्ष और सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़प हो गया था जिससे प्रतिष्ठान को काफी नुकसान पहंुचा था। इसके अलावा विद्यार्थी, स्वास्थ्यकर्मी और सुरक्षाकर्मी भी घायल हो गए थे।  

डाॅ. केसी ने अपने विज्ञप्ति में आगे लिखा कि ‘दो वर्ष पहले के हुए सत्याग्रह में जिस राज्य ने आतंक फैलाया था वही फिर केंद्र से लेकर प्रदेश सरकार में है। इसलिए फिर से वो घटना ना हो इसलिए हम जुम्ला से काठमांडू तक यात्रा कर वहीं से सत्याग्रह जारी रखने का निर्णय किया है।’

यह दिलचस्प है कि 19वें अनशन में अनशरनरत डाॅ. केसी ने मांग संबोधन नहीं होने तक किसी भी स्वास्थ्य जाँच करवाने से इंकार करते रहे। धर्मशाला से अस्पताल लाने के बाद भी उन्होंने दो दिन से कोई भी स्वास्थ्य जाँच करने नहीं दिया। 

अनशनरत डा. केसी को यथाशीघ्र सुरक्षित अस्पताल में भेजने के चिकित्सक के सुझाव के आधार पर पुलिस ने 19 सितंबर, 2020 की रात कर्णाली स्वास्थ्य विज्ञान प्रतिष्ठान शिक्षण अस्पताल जुम्ला के आइसीयू कक्ष में रख दिया था। 

डाॅ. के अनुसार, उनके रक्त में चीनी की मात्रा काफी कम हो गया था। जिसके कारण प्रमुख अंगों में जटिल समस्या और रोग प्रतिरोधात्मक क्षमता कम होने की वजह से संक्रमण का खतरे की संभावना बनी हुयी है।

यह उल्लेखनीय है कि 14 सितंबर, 2020 से अनशनरत डा. केसी ने कर्णाली स्वास्थ्य विज्ञान प्रतिष्ठान में एमबीबीएस सहित कार्यक्रम संचालन कराने और स्नातकोत्तर तह की अनुमति तत्काल प्रदान करने, गेटा मेडिकल कालेज और राप्ती स्वास्थ्य विज्ञान प्रतिष्टान में पठनपाठन शुरू कराने, प्रदेश नं. 2 और गण्डकी प्रदश तथा डोटी, डडेल्धुरा, उदयपुर, इलाम औरर पाँचथर में सरकारी मेडिकल कालेज तथा अस्पताल की प्रक्रिया आगे बढाने का मांग कर रखा है। 


Previous article
Next article

Leave Comments

टिप्पणी पोस्ट करें

Articles Ads

Articles Ads 1

Articles Ads 2

Advertisement Ads