क्या धान खेत में मछली पालन से कमा सकते हैं लाखों रुपए, जानिए किसने किया ये साहसिक काम ? - Nai Ummid
3033-px-757.jpg

क्या धान खेत में मछली पालन से कमा सकते हैं लाखों रुपए, जानिए किसने किया ये साहसिक काम ?

प्रतीकात्मक फ़ोटो

अक्सर बारिश के मौसम में धन के खेतों में पानी जमा हो जाया करता है। पानी है तो स्वाभाविक है कि उसमें थोड़ा बहुत मछली हो जाया करता है। लेकिन क्या आप यह अनुमान लगा सकते हैं कि धन खेत में मछली पालन कर लाखों रुपया कमाया जा सकता है। शायद इसका उत्तर आपके पास होगा नहीं। लेकिन ऐसा संभव कर दिखाया है नेपाल के कंचनपुर के शुक्लाफाँटा नगरपालिका–9 सिसैया निवासी भवानी सिंह ऐर ने।


जी हां, भवानी सिंह ने धान खेत में मछली पालन कर तीन लाख से भी अधिक रुपए की कमाई किया है। उन्होंने जेकेए पशुपंछी तथा मत्स्यपालन फार्म खोलकर धान खेत में मछली पालन करते हुए बीते चार महिना में यह आमदनी किया। एक बीघा धान खेत में इन्होंने कॉमन, रेहू, भाकुर, नैनी, सिल्भर, ग्रासकार्प सहित कुल 5000 मछली का बच्चा डाला। और जब चार महीने में आधा किलो से ज्यादा का वजन हुआ तो उसे बेचना शुरू कर दिया।

भवानी सिंह के मुताबिक, हमने धान खेत में पानी, चारा एवं  मल की व्यवस्था कर मछली पालन किया। हमने डबल आमदनी सोचकर यह काम किया। धान तो होगा ही साथ ही मछली पालन से भी पैसे आएंगे। दिलचस्प बात यह हो गयी कि जिस खेत में पहले केवल 5-6 बोरी धान उत्पादन हुआ करता था वहां इस बार 30 बोरी धान का उत्पादन हुआ है।

उन्होंने आगे बताया कि धान खेत में मछली पालन से एक और बड़ा फायदा हुआ। धान खेत में मछली पालन करने से धान के पौधा में लगने वाला रोग कीड़ा से भी भी मुक्ति मिल जाती है। इन कीड़ों को मछली खा जाती है। इससे अगले साल होने वाले रोग कीड़ों से भी मुक्ति मिल जाती है। अब मेरी योजना है कि इस काम को आगे भी करूँगा।

देखा जाए तो अब तक पूरा धान काट लिया गया है। और जहां तक मछली की बात है तो कुछ मछली बिक चुकी है और कुछ कक बेचना बांकी है। भवानी सिंह ने धानखेत के साथ-साथ मछली पालन के लिए चार पोखरी का भी निर्माण किया। अब बचे हुए मछली को पोखरी में रखकर बाजार में बेचा जाएगा।

भवानी सिंह आगे कहते हैं, खेत और पोखरी में मिलाकर कुल दो सौ क्विन्टल मछली उत्पादन हुआ है। जिसका बाजार कीमत 6 लाख रुपए है। 


Previous article
Next article

Leave Comments

टिप्पणी पोस्ट करें

Articles Ads

Articles Ads 1

Articles Ads 2

Advertisement Ads